News PR Live
आवाज जनता की

मां ने किया था जिउतिया व्रत, सामग्री को नदी में प्रवाहित करने गई बेटी की डूबकर मौत, पैर फिसलने से हुआ हादसा

- Sponsored -

- Sponsored -

NEWSPR डेस्क। औरंगाबाद में फेसर थाना क्षेत्र के दरियापुर गांव में जिउतिया व्रत की सामग्रियों को नहर में प्रवाहित करने गई एक 14 वर्षीय किशोरी की नहर में डूबने से मौत हो गई थी। जिसका शव चार दिन बाद उसी नहर से चार किलोमीटर दूर स्थित बगईया हनुमान बिगहा के समीप नहर में झाड़ी किनारे फंसा हुआ बरामद हुआ।

मृतक किशोरी उसी गांव के राजकुमार ठाकुर के 14 वर्षीय पुत्री रिंकी कुमारी थी। जानकारी के अनुसार यह हादसा उस वक्त हुई जब किशोरी अपनी मां के साथ पास के ही नहर में जिउतिया व्रत की सामग्रियों को प्रवाहित करने गई थी। इसी क्रम में उसका पैर फिसल गया और वह अचानक नहर में पानी के तेज बहाव में चली गई थी। जिससे डूबने से उसकी मौत हो गई थी। तब से परिजन किशोरी के शव को काफी खोजबीन करने में लगे हुए थे।

- Sponsored -

- Sponsored -

हालांकि घटना की जानकारी परिजनों ने फेसर थाना को भी दी थी। तब से परिजन एवं फेसर थानाध्यक्ष डॉ० रामविलाश यादव अपने दल-बल के साथ किशोरी के शव को खोजने में लगे हुए थे। गुरुवार की शाम काफी खोजबीन के बाद चार किलोमीटर दूर स्थित बगईया हनुमान बिगहा के पास नहर से झाड़ी में फंसा हुआ बरामद हुआ।

घटना के बाद पुलिस शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम की कागजी प्रक्रिया पूरी कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल औरंगाबाद भेज दिया। जहां से पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। घटना के बाद से परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। गांव में मातम पसरा हुआ है। परिजनों ने सरकार से आपदा राहत के तहत मुआवजे की मांग की है।

औरंगाबाद से रूपेश की रिपोर्ट

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply

Your email address will not be published.